All about Taimur lang in hindi

All about taimur lang: पूरी दुनिया पर राज करने के अपने सपने को लेकर आगे बढ़ रहा था जिसके लिए उसने समरकंद पर भी आक्रमण किया उसने समरकंद को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया था इसके साथ ही उसने लाखों लोगों को अपने जैसा बनने के लिए प्रेरित किया और अपनी संतानों की संख्या बढ़ाते हुए वह लगातार आगे बढ़ता जा रहा था कि मूर्ति की साइज पर लाश नाम की एक मंगोल कबीले का सदस्य थाl 

Taimur lang
Taimur lang

 जो चंगेज खान के बेटे शक्ति के उस इलाके में अभियानों के दौरान वहां बस गया था जब देखा ना तूने मुड़ बढ़ा हुआ था तिमुर को तिमोर तिमोर दल्ले और इंग्लिश में टेबल इन आदि नामों से जाना जाता है 1336 में समरकंद के पास केस में हुआ था जो कि अब कुछ पाकिस्तान में है कि मोड़ को सबसे ज्यादा भारत पर उसके बर्बरता पूर्ण आक्रमण उसके दूर तक फैले विशाल साम्राज्य और कला संस्कृति के प्रति उसकी रुचि के लिए जाना जाता हैl 

आशियाना के शासक आमिर खान की मृत्यु के बाद टीमों से मिल गया था लेकिन जल्दी ही उससे अलग होकर वह आमिर खान के पोते आमिर हुसैन से मिल गया इसके बाद उन्होंने 1366 में ट्रांसफर किया ना को कब्जे में ले लिया 1370 में टीम ने आमिर हुसैन की हत्या कर दी और अब वह समरकंद का शासक बन गया था उसने खुद को चंगेज खान के जगत आई और पूरे मंगोल साम्राज्य को पुनर्जीवित करने वाला बताया मूलन इतिहास का दूसरा स्थान भी कहा जाता है यही तैमूर की पहली पहचान भी थीl 

Taimur lang
Taimur lang

Know about taimur lang in hindi…

 क्योंकि तैमूर की कार्यशैली को देखकर यह कहा ही नहीं जा सकता कि चंगेज खान के बिना दमोह का परिचय दिया जा सकता है कैमूर का पूरा नाम उद्दीन तथा उसकी आयु 20 वर्ष के आसपास थी तब एक बार भेड़ों की चोरी करते हुए उसकी दाईं टांग में एक कीट लग गया था|

जिस कारण लंगड़ा हो गया और तैमूर लंग के नाम से प्रसिद्ध हुआ हालांकि उसकी सफलता के रास्ते में कभी रोना नहीं बना और 35 वर्ष का होते होते उसने एक विशाल साम्राज्य की स्थापना कर ली थी तैमूर ने अपनी सेना का गठन उसी तरह से किया था जिस तरह से चंडी अस्थान करता था सेना के गठन के बाद उसने अपने विश्व विजय के अभियान को अंजाम देना शुरू किया सबसे पहला हमला उसने अपने पड़ोसी देशों में किया उन देशों में अफगानिस्तान से लेकर पारस तक शामिल थेl  

मैं बात कर रहा हूं तैमूर लंग की भयंकर बातें बताने वाला चूड़ी पहन कर बातें बनाने वाला शुरू करते हैं पहला तैमूर लंग का जन्म 6 अप्रैल 1336 में उज्बेकिस्तान की शहर शहर एक शब्द में हुआ था तैमूर के पिता ने इस्लाम कबूल कर लिया और तैमूर भी इस्लाम का कट्टर अनुयाई हुआ दूसरा परिवार की गरीबी के चलते तैमूर ने बचपन से ही छोटी-मोटी चोरियां शुरू कर दी थीl 

 धीरे-धीरे उसने अपनी गैंग बना ली गैंग बनाने के बाद तैमूर ने बड़ी-बड़ी लूटपाट की घटनाओं को अंजाम देना शुरू कर दिया और इस तरह वह खूंखार लुटेरा बन गया तीसरा 1369 में समरकंद के मंगोल शासक के मर जाने पर उसके समरकंद की गद्दी पर कब्जा कर लिया तैमूर मंगोल विजेता चंगेज खान की तरह ही समस्त संसार को अपनी शक्ति से लोन डालना चाहता थाl 

 और सिकंदर की तरह हो विश्व विजय की कामना रखता था चौथा तैमूर नाम का मतलब आज है यानी कि लंगड़ा उसके नाम से जोड़ा गया क्योंकि उसने अपना पैर  गवा दिया वह खुद को चंगेज खान का वंशज होने का दावा करता था लेकिन असल में वह नहीं थाl  पांचवा तैमूर ने सबसे पहले 1380 में इराक की राजधानी बगदाद पर हमला बोला था जहां हजारों लोगों का कत्ल कर उनकी लाशों  के ढेर लगा दिए थे फिर उसने एक के बाद एक कई खूबसूरत राज्यों को खंडहर में बदल दियाl 

More about taimur lang in hindi..

 कटे हुए सिरों  के बड़े-बड़े ढेर लगवाने में उसे खास मजा आता था कई देशों में लूटपाट के दौरान तैमूर ने नासिर धन दौलत जमा की बल्कि उसने बड़ी फौज भी तैयार कर ली थी तैमूर दिमाग का तेज था|

Taimur lang
Taimur lang

और वह बहादुर लीडर भी था जिसके चलते सिपाही उसकी बहुत इज्जत करते थे वह हर जंग में अगली लाइन में खड़ा होता था और यह बात सिपाहियों के दिल में जोश भर देती थीl सांस व कई राज्यों को जीतने के बाद तैमूर ने भारत पर हमला करने की योजना बनाई उसने भारत की धन-दौलत के बारे में बहुत कुछ सुन रखा था अतः वह भारत पर हमला करने के लिए आतुर थाl 

 आठवां शुरू में तो तैमूर के सेनापति भारत पर हमला करने के लिए तैयार नहीं थे पर जब उसने इस्लाम धर्म के प्रचार के लिए भारत में हिंदू धर्म के विरुद्ध युद्ध करने का अपना उद्देश्य घोषित किया उसके सेनापति भारत पर हमला करने के लिए तैयार हो गए नवोदय के भारत हमले की पूरी जानकारी उसकी जीवनी पूरी मिलती है|

जीवनी की शुरुआत वह कुरान की आयत शुरू करता है और विश्वास ना लाने वालों से युद्ध करो और उन पर सख्ती बरतें भारत पर हमला करने के संबंध में लिखता है हिंदुस्तान पर आक्रमण करने का में राज्य का फिर हिंदुओं के विरुद्ध धार्मिक युद्ध करना है इस्लाम की सेना को भी हिंदुओं की दौलत और मूल्यवान वस्तुएं मिल जाएl 

 10 सितंबर 1398 तैमूर भारत पर हमला करने के लिए समरकंद से रवाना हुआ और सिंधु नदी के रास्ते भारत में घुस गया सबसे पहले उसने तुलुंबा नगर पर हमला कर वहां के हजारों निवासियों का कत्ल कर दिया और कईयों को बंदी बनाया कई मंदिर नष्ट कर दिए गए यार वाह इसके बाद उसने कश्मीर की सीमा पर कठोर राजपूत किले पर हमला किया और तमाम पुरुषों और स्त्रियों और बच्चों को कैद करने का आदेश दिया गजल किए गए पुरुषों के सिर की रोशनी मीनारें बनवाईl 

 जीवनी में लिखता है कि थोड़े ही समय में दुर्ग के तमाम लोग तलवार के घाट उतार दिए गए घंटे भर में 10000 लोगों के सिर काटे गए इस्लाम की तलवार ने काफिरों के रक्त में स्नान किया उनके सर्व समाज खजाने और अनाज को भी जो सालों से दुर्ग में इकट्ठा किया गया था मेरे सिपाहियों ने लूट लिया मकानों में आग लगा कर राख कर दिया बार-बार ने जाटों के प्रदेश में प्रवेश किया तो उसने अपनी सेना को आदेश दिया कि जो भी मिल जाए कत्ल कर दिया जाए इसके बाद वह दिल्ली की तरफ आने वाली नगरों को मिट्टी में मिला थाl 

 और लोगों को कत्ल करता रहा साथ ही साथ उसने हजारों लोगों को बंदी भी बना लिया तेरवा दिल्ली के ऊपर हमला करने से पहले वह लोनी नगर में ठहरा अब उसके पास बंदियों की संख्या एक लाख से ऊपर हो गई थी जिनमें से थोड़े से ही मुसलमान थे दिल्ली पर हमला करते समय वह इन बंदियों को कैंप में अकेला नहीं छोड़ना चाहता था और उसने आदेश दिया कि सभी मुसलमान बंदियों को छोड़कर सब को क़त्ल कर दिया जाएl 

 और जो इस आदेश की पालना करने में ना नाखून करें उसे भी मार दिया जाए ऐसा देश के संबंध में तैमूर अपनी जीवनी में लिखता है इसलिए उन लोगों को सिवाय तलवार का भोजन बनाने के कोई मार्ग नहीं था मैंने कैंप में घोषणा करवा दी संबंधी कत्ल कर दिए जाएं और इस आदेश के पालन में जो भी लापरवाही करें उसे भी कत्ल कर दिया जाए और उसकी संपत्ति सूचना देने वाले को दे दी जाए जब इस्लाम के गाजिया को यह आदेश मिला तो उन्होंने तलवारें सुतली और अपने बंदियों को कत्ल कर दियाl 

 उस दिन एक लाख अपवित्र मूर्ति पूजा का फिर कत्ल कर दिए गए दिल्ली पर उस समय सुल्तान महमूद का राज था वहीं अयोग्य शासन था उसने अपनी 40,000 पैदल सेना 10,000 और सेना और 120 हाथों से तैमूर का मुकाबला किया पर बुरी तरह से हार गया और युद्ध के मैदान से ही भाग गया 15 सुल्तान को हारने के बाद जब तैमूर लंग दिल्ली पहुंचा तो उसने 5 दिनों तक शहर को पूरी तरह से लूटा और निवासियों का बेरहमी से कत्ल कर दिया औरतों को गुलाम बना लियाl 

  जीवन भर उनका बलात्कार किया उसकी इच्छा भारत में रहकर राज करने की नहीं थी इसलिए 15 दिन दिल्ली में रहकर वह वापस अपनी राजधानी समरकंद की ओर चल दिया सोलवा भारत में वापस लौटते समय उसने मेरठ हरिद्वार पंजाब और जम्मू क्षेत्रों को बुरी तरह से लूटा और आप लोगों का कत्ल किया भारत में लगभग 6 महीने रहने के बाद वह 19 मार्च 1399 को सिंधु नदी पार करके भारत से चला गयाl  17 वा एक अनुमान के अनुसार तैमूर की सेना ने अपने सभी हमलों और युद्धों में लगभग 2 करोड लोगों का कत्ल किया थाl 

Getting more abour taimur lang…

 जो उस समय की संसार की कुल आबादी का 5% था अथवा उज्बेकिस्तान के लोग आज भी तैमूर को अपना हीरो मानते हैं और उसकी कई प्रतिमाएं उज्बेकिस्तान के शहरों में लगी हुई है उसमें किस्तान के इतिहास में तैमूर को एक हीरो की तरह पेश किया जाता है|

और उसके काले कारनामों के बारे में बिल्कुल भी चर्चा नहीं की जाती 19 वा तैमूर की मौत 1405 में उस समय हुई जब वह चीन पर हमला करने के लिए जा रहा था मृत्यु के पश्चात उसे समरकंद में दफना दिया गया था जहां आज उस का मकबरा बना हुआ है|

सन 1941 में रूस के पुरातत्व में तैमूर के मकबरे की खुदाई कर उसके कंकाल का अध्ययन किया और पाया कि उसकी कूल्हे की हड्डी टूटी हुई थी और दाएं हाथ की दो उंगलियां गायब थी उसके कंकाल से यह भी पता चला उसकी लंबाई 5 फुट 9 इंच थी और छाती चौड़ी दोस्तों यह थी धर्म से जुड़ी 20 भयंकर बातें l 

Final words: All about taimur lang

All about taimur lang in hindi : यह पोस्ट आपको कैसा लगा कमेंट करके हमें जरुर बताये| hindividyalaya पर ऐसे ही जानकारी वाले पोस्ट आपको मिलते रहेंगे|अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा तो अपने दोस्तों के साथ जरुर share करे|

इस article में All about taimur lang के बारे में जाना |

मेरे आपको हमारे द्वारा दी हुई सारी जानकारी All about taimur lang बहुत पसंद आई होगी और सही भी होगी अगर आपको लगता है इसमें कोई त्रुटि है तो आप हमें हमारी सोशल मीडिया पर या हमें मैसेज ईमेल करके भी बता सकते हैं हम आपकी बातों को जरूर सुनेंगे।

अगर आपको Social networking sites and हमारे Social Media जैसे facebook , pinterest , linkedin , quora और HindiVidyalaya के साथ जुड़े रहे।

Thank you!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *