satyarth prakash|satyarth prakash book|satyarth prakash pdf

satyarth prakash : अगर आप अपने जीवन में बदलाव चाहते है तो satyarth prakash book को जरुर पढ़े|

यह पुस्तक कोई साधारण पुस्तक नही ये आपके मन में अपने देश के प्रति बहुत ज्यादा देश भक्ति की भावना भरती है|

इस पुस्तक ने हमारे देश के बड़े बड़े क्रान्तिकारियो के जीवन को बदल के रख दिया था|जिनमे शामिल थे रामप्रसाद बिस्मिल|

राम प्रसाद बिस्मिल जी महान क्रन्तिकारी थे जिनके संगठन में चंद्रशेखर और भगत सिंह जैसे महान क्रन्तिकारी शामिल थे|

रामप्रसाद बिस्मिल ने अपने जीवनी में लिखा है की जब उन्होंने satyarth prakash पढ़ा| तो उनका जीवन पूरी तरह से बदल गया|

satyarth prakash पुस्तक ने उनके जीवन को पूरी तरह से पलट दिया| इसको पढने के बाद वो ब्रम्हचर्य का पालन करने लगे|और योग साधना भी start किया| योग साधना में उन्होंने एक अच्छी मुकाम भी प्राप्त किया|

satyarth prakash ban story

इस किताब में इतनी शक्ति थी की अंग्रेज भी इससे डरते थे| क्योकि वह भारत के सभी युवाओ के दिल में देश भक्ति की भावना भरती थी|और उनको देश के लिए कुछ भी कर गुजरने के लिए प्रेरित करती थी|अंग्रेज हर उस चीज से खौफ खाते थे जो भारत को आजादी दिलाने में मदद करती थी|क्योकि इस पुस्तक को पढ़ने के बाद हर कोई क्रन्तिकारी बन जाता था|

अंग्रेज इसाई थे और वो चाहते थे के हिन्दू और मुसलमान को किसी भी तरह धर्म परिवर्तन करके उन्हें भी इसाई बना लिया जाये|लेकिन अगर कोई भी हिन्दू या मुसलमान अगर satyarth prakash एक बार पढ़ लेता था तो उससे उसका धर्मं परिवर्तन नही कराया जा सकता था|क्योकि यह पुस्तक लोगो को उनके संस्कृति और समाज पर गर्व करना सिखाती थी|

satyarth prakash किसने लिखी?

satyarth prakash को 1875 में  Dayanand Saraswati द्वारा लिखी गयी|पूरी किताब को हिंदी में लिखा गया था|

इस किताब में कुल 14 chepter थे जो की निचे दिए गए है…

ChapterContent
1The first chapter is an exposition of “Om” and other names of God.
2The second chapter provides guidance on the upbringing of children.
3The third chapter explains the life of Brahmacharya (bachelor), the duties and qualifications of scholars and teachers, good and bad books and the scheme of studies.
4Chapter 4 is about marriage and married life.
5Chapter 5 is about giving up materialism and starting to carry out community service.
6Chapter 6 is about Science of Government.
7Chapter 7 is about Veda and God.
8Chapter 8 deals with Creation, Sustenance and Dissolution of the Universe.
9Chapter 9 deals with knowledge and ignorance, and emancipation and bondage.
10Chapter 10 deals with desirable and undesirable conduct and permissible and forbidden diet.
11Chapter 11 contains criticism of the various religions and sects prevailing in India.
12Chapter 12 deals with the Charvaka, Buddha (Buddhist) and Jain religions.
13Chapter 13 has his views on Christianity (the Bible).
14Chapter 14 has his views on Islam (Quran).
satyarth prakash book

final words

सत्यार्थ प्रकाश हिन्दू एकता को संगठित करने की बात करता है|यह हमें अपने देश से प्रेम करना सिखाता है|यह हमें गर्व करना सिखाता है अपनी संस्कृति और सभ्यता पर| अगर आपने अभी तक इसको नही पढ़ा है तो एक बार जरुर पढ़े|

दोस्तों आपको यह पोस्ट कैसा लगा हमें जरुर बताये साथ ही साथ अपने दोस्तों के साथ जरुर share करे|

satyarth prakash book|satyarth prakashpdf यहा क्लिक करके download करे|

All about satyarth prakash book : यह पोस्ट आपको कैसा लगा कमेंट करके हमें जरुर बताये| hindividyalaya पर ऐसे ही जानकारी वाले पोस्ट आपको मिलते रहेंगे|अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा तो अपने दोस्तों के साथ जरुर share करे|

इस article में All about satyarth prakash pdf के बारे में जाना |

मेरे आपको हमारे द्वारा दी हुई सारी जानकारी satyarth prakash pdf बहुत पसंद आई होगी और सही भी होगी अगर आपको लगता है इसमें कोई त्रुटि है तो आप हमें हमारी सोशल मीडिया पर या हमें मैसेज ईमेल करके भी बता सकते हैं हम आपकी बातों को जरूर सुनेंगे।

अगर आपको Social networking sites and हमारे Social Media जैसे facebook , pinterest , linkedin , quora और HindiVidyalaya के साथ जुड़े रहे।

Thank you!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *