essay on health is wealth in hindi

essay on health is wealth in hindi : कहावत है हेल्थ इज वेल्थ एक स्वयंसिद्ध सत्य है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि स्वास्थ्य ही वास्तविक धन है। यह कहावत हमें स्वास्थ्य का महत्व सिखाती है।
 जो धन हम जमा करते हैं और ढेर करते हैं वह स्वास्थ्य की तुलना में कुछ भी नहीं है। यह स्वास्थ्य है जो जीवन में अधिक मायने रखता है। जब कोई अच्छी शारीरिक और मानसिक स्थिति में होता है, तो वह जीवन का आनंद ले सकता है और खुशहाल जीवन जी सकता है। खुशी और आनंद का मुख्य स्रोत हमारा स्वास्थ्य है।
essay on health is wealth in hindi
essay on health is wealth in hindi
पहले अपने स्वास्थ्य को बनाए रखना चाहिए। संतुलित भोजन करना चाहिए, ताजे फल और पत्तेदार हरी सब्जियां खानी चाहिए।

essay on health is wealth in hindi

 उसे स्वच्छ और शुद्ध पानी पीना चाहिए, ताजी हवा लेनी चाहिए, प्रतिदिन व्यायाम करना चाहिए, उचित धूप लेनी चाहिए और स्वस्थ रहने के लिए स्वच्छता बनाए रखना चाहिए। 
एक स्वस्थ शरीर स्वस्थ दिमाग का प्रतीक है। अस्वस्थ शरीर रखने वाला व्यक्ति जीवन में सफल और उत्कृष्ट होने के लिए अपनी क्षमताओं और क्षमताओं का उपयोग करने में सक्षम नहीं होगा।
 बिस्तर पर जल्दी उठने से मनुष्य स्वस्थ और बुद्धिमान बनता है। अच्छे स्वास्थ्य के लिए उचित आराम अनिवार्य है। धन और धन की चाह में लोग उचित आराम करना भूल जाते हैं और जल्दी बिस्तर पर नहीं जाते हैं।
 स्वस्थ रहने के लिए दिन में दो बार दांतों को ब्रश करना चाहिए और खाने से पहले और बाद में हाथ धोना चाहिए। हमें खुद को कीटाणुओं और बीमारियों से दूर रखने के लिए रोज नहाना चाहिए। 
सुबह की सैर सेहत के लिए अच्छी होती है। अनहोनी स्थितियां उन बीमारियों का कारण बनती हैं जो हमें बेडिय़ा बनाती हैं। अस्वस्थ व्यक्ति निष्क्रियता और आलस्य का शिकार हो जाता है जो हमारे जीवन पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है।
अच्छा स्वास्थ्य ही सफलता और खुशी की कुंजी है। अच्छी शारीरिक और मानसिक स्थिति में रहने वाला व्यक्ति दुनिया का आनंद उठा सकता है और जीवन की चुनौतियों का सामना आसानी और आराम से कर सकता है। हम पैसे के बिना खुश रह सकते हैं लेकिन हम अच्छे स्वास्थ्य के बिना खुशी से नहीं रह सकते।

यह स्वास्थ्य है जो हमें कुछ करने और कुछ कमाने के लिए सक्षम और प्रोत्साहित करता है। स्वास्थ्य जीवन में सबसे कीमती कमाई है।

जो स्वास्थ्य को बनाए रखता है वह अपने जीवन को संतुलित कर सकता है और जीवन में उत्कृष्टता प्राप्त कर सकता है। अच्छा स्वास्थ्य हमें कई बीमारियों और समस्याओं से मुक्ति दिलाता है।

स्वास्थ्य हमें कठिन समय का सामना करने के लिए अधिक समय तक काम करने में सक्षम बनाता है। जीवन हमेशा सहज नहीं होता है। जीवन में उतार-चढ़ाव आते हैं।
एक स्वस्थ व्यक्ति जीवन की चुनौतियों का सामना कर सकता है और सामने आई कठिनाई से छुटकारा पाने का रास्ता बना सकता है।

जीवन का वास्तविक आनंद और आकर्षण अच्छे स्वास्थ्य में है। अच्छे स्वास्थ्य के बिना, जीवन का वास्तविक आकर्षण का आनंद नहीं ले सकता।

जबकि एक अस्वस्थ व्यक्ति जीवन का आनंद लेने से वंचित रहता है और हमेशा बीमारी के कारण चिंता की स्थिति में रहता है। इसका मतलब है कि स्वास्थ्य एक आशीर्वाद है।

अच्छा स्वास्थ्य तनाव के स्तर को कम करता है और गतिविधि को बढ़ावा देता है। एक स्वस्थ व्यक्ति प्रभावी और उत्पादक रूप से काम करने के लिए सक्रिय और ऊर्जावान है।

वे बिना किसी बाधा और पीड़ा के सभी नियमित कार्य करते हैं। शारीरिक फिटनेस से कर्तव्यनिष्ठा और नियमित रूप से कर्तव्य निर्वहन में मदद मिलती है। जबकि एक अस्वास्थ्यकर व्यक्ति शायद ही अपनी नियमित गतिविधियों को बनाए रखने में मदद करता है।
यह ठीक ही कहा गया है कि स्वास्थ्य सबसे बड़ा धन है क्योंकि व्यक्ति स्वस्थ होने पर अच्छे जीवन का आनंद ले सकता है।

स्वास्थ्य एक वरदान है और एक अनमोल रत्न जो पैसे से नहीं खरीदा जा सकता है। यदि यह खो जाता है तो इसे पैसे से वापस खरीदा जा सकता है।

व्यक्ति को अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना चाहिए क्योंकि यह स्वास्थ्य है जो हमें अच्छे जीवन की अनुभूति करने में सक्षम बनाता है। जीवन के सुख उन्हीं को मिलते हैं जो स्वस्थ हैं।

मैं व्यक्तिगत रूप से एक अच्छे जीवन का नेतृत्व करने के लिए विश्वास करता हूं कि अमीर होने के लिए आवश्यक नहीं है क्योंकि एक अमीर और संपन्न व्यक्ति जीवन का आनंद नहीं ले सकता है यदि वह बीमार या बीमार है। हालाँकि स्वस्थ रहना आवश्यक है क्योंकि अच्छा स्वास्थ्य होने पर व्यक्ति जीवन का आनंद उठा सकता है।

यह जीवन का सबसे बड़ा आशीर्वाद है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि स्वास्थ्य धन से श्रेष्ठ है। यह कैसे श्रेष्ठ है, एक अमीर व्यक्ति से पूछें, जो अच्छे स्वास्थ्य से वंचित है।

वह स्वतंत्र रूप से ईश्वर का आशीर्वाद नहीं खा और पी सकता है और अधिक खुश नहीं हो सकता है। जबकि दूसरी तरफ जो अच्छा स्वास्थ्य रखता है वह सभी खाद्य पदार्थों का उपभोग कर सकता है और अत्यधिक भोजन कर सकता है।

धन केवल आँखों का सुख है जबकि स्वास्थ्य वास्तविक और मूल्यवान है। जीवन में धन सब कुछ का विकल्प नहीं है, लेकिन स्वास्थ्य जीवन में हर चीज का स्थानापन्न है।

मैं आपको एक उदाहरण देता हूं, अगर धन एक कार है तो स्वास्थ्य इसके लिए एक इंजन है। इंजन के बिना नहीं चलने वाली कार वैसे ही धनी व्यक्ति अच्छे स्वास्थ्य के बिना आनंद नहीं ले सकता।

मैंने ऐसे हजारों गरीबों को देखा है जिनके पास बैंक बैलेंस नहीं है और न ही उन्होंने जीवन की कोई वस्तु खरीदी है और उनके पास पर्याप्त पैसा नहीं है, फिर भी वे खुशी से मुस्कुराते हैं, खुशी से हंसते हैं और अच्छी तरह से सोते हैं।

दूसरी ओर, जिनके पास बहुत पैसा है और उनकी उंगलियों पर उपलब्ध हर चीज अभी तक सो नहीं पा रही है।

स्वस्थ लोगों को अच्छी नींद दी जाती है। अच्छा स्वास्थ्य होना आवश्यक है। धन अर्जित किया जा सकता है, लेकिन अगर अच्छा स्वास्थ्य खो दिया है, तो यह मुश्किल से वापस कमाया जाता है।

कोई कैसे स्वास्थ्य को धन में बदल सकता है और एक शांतिपूर्ण आरामदायक जीवन का आनंद ले सकता है, यह स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए है।
स्वच्छता और व्यक्तिगत स्वच्छता अच्छे स्वास्थ्य की कुंजी है। उचित स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए हमें एक अनुशासित जीवन जीना चाहिए। बिस्तर पर जल्दी उठना और जल्दी उठना मनुष्य को स्वस्थ, धनवान बनाता है।

संतुलित आहार लें। स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए रोजाना समय पर भोजन करें और व्यायाम करें। भोजन नहीं करना चाहिए। ऊर्जा खाद्य पदार्थों के अत्यधिक सेवन से मोटापा होता है जो शरीर का एक बड़ा विकार है।

essay on health is wealth in hindi

kahaavat hai helth ij velth ek svayansiddh saty hai. isamen koee sandeh nahin hai ki svaasthy hee vaastavik dhan hai. yah kahaavat hamen svaasthy ka mahatv sikhaatee hai.

jo dhan ham jama karate hain aur dher karate hain vah svaasthy kee tulana mein kuchh bhee nahin hai. yah svaasthy hai jo jeevan mein adhik maayane rakhata hai.

jab koee achchhee shaareerik aur maanasik sthiti mein hota hai, to vah jeevan ka aanand le sakata hai aur khushahaal jeevan jee sakata hai. khushee aur aanand ka mukhy srot hamaara svaasthy hai.

pahale apane svaasthy ko banae rakhana chaahie. santulit bhojan karana chaahie, taaje phal aur pattedaar haree sabjiyaan khaanee chaahie.

use svachchh aur shuddh paanee peena chaahie, taajee hava lenee chaahie, pratidin vyaayaam karana chaahie, uchit dhoop lenee chaahie aur svasth rahane ke lie svachchhata banae rakhana chaahie.

ek svasth shareer svasth dimaag ka prateek hai. asvasth shareer rakhane vaala vyakti jeevan mein saphal aur utkrsht hone ke lie apanee kshamataon aur kshamataon ka upayog karane mein saksham nahin hoga. bistar par jaldee uthane se manushy svasth aur buddhimaan banata hai.

achchhe svaasthy ke lie uchit aaraam anivaary hai. dhan aur dhan kee chaah mein log uchit aaraam karana bhool jaate hain aur jaldee bistar par nahin jaate hain. svasth rahane ke lie din mein do baar daanton ko brash karana chaahie aur khaane se pahale aur baad mein haath dhona chaahie. hamen khud ko keetaanuon aur beemaariyon se door rakhane ke lie roj nahaana chaahie.

subah kee sair sehat ke lie achchhee hotee hai. anahonee sthitiyaan un beemaariyon ka kaaran banatee hain jo hamen bediya banaatee hain. asvasth vyakti nishkriyata aur aalasy ka shikaar ho jaata hai jo hamaare jeevan par pratikool prabhaav daalata hai.

achchha svaasthy hee saphalata aur khushee kee kunjee hai. achchhee shaareerik aur maanasik sthiti mein rahane vaala vyakti duniya ka aanand utha sakata hai aur jeevan kee chunautiyon ka saamana aasaanee aur aaraam se kar sakata hai. ham paise ke bina khush rah sakate hain lekin ham achchhe svaasthy ke bina khushee se nahin rah sakate.

yah svaasthy hai jo hamen kuchh karane aur kuchh kamaane ke lie saksham aur protsaahit karata hai. svaasthy jeevan mein sabase keematee kamaee hai.

jo svaasthy ko banae rakhata hai vah apane jeevan ko santulit kar sakata hai aur jeevan mein utkrshtata praapt kar sakata hai. achchha svaasthy hamen kaee beemaariyon aur samasyaon se mukti dilaata hai.

svaasthy hamen kathin samay ka saamana karane ke lie adhik samay tak kaam karane mein saksham banaata hai. jeevan hamesha sahaj nahin hota hai. jeevan mein utaar-chadhaav aate hain.

yah theek hee kaha gaya hai ki svaasthy sabase bada dhan hai kyonki vyakti svasth hone par achchhe jeevan ka aanand le sakata hai. svaasthy ek varadaan hai aur ek anamol ratn jo paise se nahin khareeda ja sakata hai. yadi yah kho jaata hai to ise paise se vaapas khareeda ja sakata hai.

vyakti ko apane svaasthy ka dhyaan rakhana chaahie kyonki yah svaasthy hai jo hamen achchhe jeevan kee anubhooti karane mein saksham banaata hai. jeevan ke sukh unheen ko milate hain jo svasth hain.

main vyaktigat roop se ek achchhe jeevan ka netrtv karane ke lie vishvaas karata hoon ki ameer hone ke lie aavashyak nahin hai kyonki ek ameer aur sampann vyakti jeevan ka aanand nahin le sakata hai yadi vah beemaar ya beemaar hai. haalaanki svasth rahana aavashyak hai kyonki achchha svaasthy hone par vyakti jeevan ka aanand utha sakata hai.

yah jeevan ka sabase bada aasheervaad hai. isamen koee sandeh nahin hai ki svaasthy dhan se shreshth hai. yah kaise shreshth hai, ek ameer vyakti se poochhen, jo achchhe svaasthy se vanchit hai. vah svatantr roop se eeshvar ka aasheervaad nahin kha aur pee sakata hai aur adhik khush nahin ho sakata hai.

jabaki doosaree taraph jo achchha svaasthy rakhata hai vah sabhee khaady padaarthon ka upabhog kar sakata hai aur atyadhik bhojan kar sakata hai. dhan keval aankhon ka sukh hai jabaki svaasthy vaastavik aur moolyavaan hai. jeevan mein dhan sab kuchh ka vikalp nahin hai, lekin svaasthy jeevan mein har cheej ka sthaanaapann hai.

main aapako ek udaaharan deta hoon, agar dhan ek kaar hai to svaasthy isake lie ek injan hai. injan ke bina nahin chalane vaalee kaar vaise hee dhanee vyakti achchhe svaasthy ke bina aanand nahin le sakata.

mainne aise hajaaron gareebon ko dekha hai jinake paas baink bailens nahin hai aur na hee unhonne jeevan kee koee vastu khareedee hai aur unake paas paryaapt paisa nahin hai, phir bhee ve khushee se muskuraate hain, khushee se hansate hain aur achchhee tarah se sote hain. doosaree or, jinake paas bahut paisa hai aur unakee ungaliyon par upalabdh har cheej abhee tak so nahin pa rahee hai.

svasth logon ko achchhee neend dee jaatee hai. achchha svaasthy hona aavashyak hai. dhan arjit kiya ja sakata hai, lekin agar achchha svaasthy kho diya hai, to yah mushkil se vaapas kamaaya jaata hai.

koee kaise svaasthy ko dhan mein badal sakata hai aur ek shaantipoorn aaraamadaayak jeevan ka aanand le sakata hai, yah svaasthy banae rakhane ke lie hai. svachchhata aur vyaktigat svachchhata achchhe svaasthy kee kunjee hai. uchit svaasthy banae rakhane ke lie hamen ek anushaasit jeevan jeena chaahie.

bistar par jaldee uthana aur jaldee uthana manushy ko svasth, dhanavaan banaata hai. santulit aahaar len. svaasthy ko banae rakhane ke lie rojaana samay par bhojan karen aur vyaayaam karen. bhojan nahin karana chaahie. oorja khaady padaarthon ke atyadhik sevan se motaapa hota hai jo shareer ka ek bada vikaar hai.

Conclusion : essay on health is wealth in hindi

essay on health is wealth in hindi : मैं आपसे यही expect kar सकता हूं कि हमारी बताई हुई जानकारी आपको बहुत ही अच्छी लगी होगी |और आप कोई भी ऐसी जानकारी हमारे hindividyalaya पर देख सकते हैं जो आपको बहुत ही अच्छी लगेगी|

अगर आपको Social networking sites and हमारे Social Media जैसे facebook , pinterest , linkedin , quora और HindiVidyalaya के साथ जुड़े रहे।

Thank you!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *